30 January, 2017

आपकी सहेली | राजस्थानी समाज के शादी-ब्याह में लिए जानेवाले झाले-वारणे : भाग 2

पिछली बार ज्योति जी ने आपको राजस्थानी समाज के शादी-ब्याह में झाले-वारणे भाग - 1 से रूबरू कराया था और इस बार उन्होने दूसरे भाग को प्रकाशित किया है। जो आपके लिए पेश है।



 राजस्थानी समाज के शादी-ब्याह में झाले-वारणे लेने की प्रथा है। लेकिन लेडिज संगीत के चलते झाले-वारणे सिर्फ़ रस्म-अदायगी के तौर पर होने लगे है। वारणे तो फ़िर भी लिए जाते है लेकिन आजकल की पीढ़ी को झाले न आने के कारण झाले सिर्फ़ शगुन के तौर पर होने लगे है।

यहां पर हमने सिर्फ चार झाले ही दिए है बाकि आप उनके ब्लॉग आपकी सहेली पर पढ़ सकते है।

61) मंदर उपर सुंदर खड़ी जी ओ राज भंवरजी खड़ी सुकाव केस।
केसा केसा घुंघरा जी ओ राज भंवरजी चमक चारों देश॥

62) मंदर उपर सुंदर खड़ी जी ओ राज भंवरजी खड़ी सुकाव केस।
राजिंद फेरी दे गया जी ओ राज भंवरजी कर जोगी रो भेष॥

63) मंदीर म मंदीर जी ओ राज भंवरजी मंदीर म भगवान।
म म्हारी काम करती जी ओ राज भंवरजी खड्या-खड्या निखरं साहेबान॥

64) दुधा भरी बाटकी जी ओ राज भंवरजी शिवजी पुजन जाय।
पार्वती म्हाने यु कहे जी ओ राज भंवरजी रहियो अमर सुहाग॥

<<< पूरी रचना पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें >>>



ज्योति देहलीवाल जी एक गृहणी है और महाराष्ट्र में निवारसरत है। आप 2014 से ब्लॉग लिख रही है। उनके ब्लॉग पर विभिन्न विषयों से संबधित रोचक जानकारियां और सामाजिक व घरेलू टिप्स आदि ढ़ेरो जानकारीवर्द्धक लेखो की काफी लम्बी श्रृखला है। ज्योति जी से ई-मेल jyotidehliwal708@gmail.com पर स्म्पर्क किया जा सकता है और उन्हे Facebook पर फालो कर सकते है।


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ