01 July, 2017

लौट आये फिर कहीं प्यार... | ब्लॉग नई सोच


सांझ होने को है......
रात आगे खडी,
बस भी करो अब शिकवे,

बात बाकी पडी...
सुनो तो जरा मन की,
वह भी उदास है।
ऐसा भी क्या है तड़पना
अपना जब पास है।
ना कर सको प्रेम तो,
चाहे झगड़ फिर लो...
नफरत की दीवार लाँघो,
चाहे उलझ फिर लो...
शायद सुलझ  भी जाएंं
खामोशियों के ये तार...
लौट आयेंं बचपन की यादें,
लौट आये फिर कहीं प्यार...?

खाई भी गहरी सी है,
तुम पाट डालो उसे...
सांझ ढलने से पहले,
बाग बना लो उसे...
नन्हींं नयी पौध से फिर,
महक जायेगा घर-बार ...
लौट आयें बचपन की यादें...
लौट आये फिर कहीं प्यार...?

<<< पूरी रचना पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें >>>



सुधा देवरानी जी 2016 से ब्लॉगिग कर रहें है और अपनी कविताओं को नई सोच ब्लॉग के माध्यम से पाठको के बीच रख रहीं है। ब्लॉगर सुधा जी से ई-मेल sdevrani16@gmail.com पर स्म्पर्क किया जा सकता है। 


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ


Blog this Week

loading...