22 August, 2017

धरती माँ की चेतावनी | ब्लॉग नई सोच


मानव तू संतान मेरी  
मेरी ममता का उपहास न कर।
सृष्टि-मोह वश मैंं चुप सहती,
अबला समझ अट्टहास न कर।
  
सृष्टि की श्रेष्ठ रचना तू!
तुझ पर मैने नाज़ किया।
कल्पवृक्ष और कामधेनु से,
अनमोल रत्नों का उपहार दिया।

क्षुधा मिटाने अन्न उपजाने,
तूने वक्ष चीर डाला मेरा।
ममतामयी-माँ बनकर मैने,
अन्न दे, साथ दिया तेरा।
  
तरक्की के नाम पर तूने,
खण्ड-खण्ड किया मुझको।
नैसर्गिकी छीन ली मेरी,
फिर भी माफ किया तुझको।

पर्यावरण प्रदूषित करके तू,
ज्ञान बढाये जाता है।

<<< पूरी रचना पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें >>>


सुधा देवरानी जी 2016 से ब्लॉगिग कर रहें है और अपनी कविताओं को नई सोच ब्लॉग के माध्यम से पाठको के बीच रख रहीं है। ब्लॉगर सुधा जी से ई-मेल sdevrani16@gmail.com पर स्म्पर्क किया जा सकता है। 


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ