26 August, 2017

ब्लॉगरों के लिए सुअवसर, लेखन के साथ करें इनकम

पंखुड़ियाँ कहानी संग्रह में बतौर लेखक शामिल होने का मौका

प्राची डिजिटल पब्लिकेशन द्वारा जल्द प्रकाशित होने वाली ई-बुक “पंखुड़ियाँ” के लिए कई साहित्यकारों ने हमें अपनी कहानियां भेजी, लेकिन हमें खेद है कि उनमें से ज्यादातर कहानियां हम नही ले पाए। क्योंकि वे कहानियां अपने ब्लॉग पर पहले से ही प्रकाशित कर चुके थे। ऐसे में उनकी प्रविष्टियों को रद कर दिया गया है क्योंकि हम नहीं चाहते है कि पाठकों को पुरानी पढ़ी हुई कहानियां ही दुबारा से इस संकलन के माध्यम से पढ़ाया जाए। वहीं कुछ कहानियों का कोई अपना महत्व नहीं था।
इसलिए आप सभी साहित्यकारों से अनुरोध है कि कृपया अपनी पूर्णतया: अप्रकाशित कहानियां ही “पंखुड़ियाँ” कहानी संग्रह में प्रकाशन के लिए भेजें। अधिक जानकारी के लिए https://goo.gl/ZnmRkM पर विजिट करें या हमें लिखें - prachidigital5@gmail.com
आपको बतातें चलें कि अब तक इस कहानी संग्रह में 10 साहित्यकारों का चयन किया गया है। जिनका विवरण निम्नवत है।
1. सुधा सिंह, नवी मुम्बई, महाराष्ट्र।
2. रितु आसूजा, ऋषिकेष, उत्तराखण्ड।
3. डा. फखरे आलम खान, मेरठ, उत्तर प्रदेश।
4. विकेश निझावन, अम्बाला, हरियाणा।
5. शालिनी गुप्ता, गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश।
6. अर्पणा बाजपेई, जमशेदपुर, झारखंड।
7. रोनी ईनाफाइल, नई दिल्ली।
8. आशीष कमल श्रीवास्तव, विजयवाड़ा, आन्ध्र प्रदेश।
9. पल्लवी सक्सेना, पूने, महाराष्ट्र।

ब्लॉगरों के लिए सुअवसर

यह ब्लॉगरों के लिए भी एक शानदार अवसर है कि यदि वे कहानी लेखन भी करते है तो अपनी कहानी इस संग्रह के लिए भेज सकते है। इस कहानी संग्रह के लिए अंतिम तिथि बढ़ाकर अब 31 अक्टूबर 2017 कर दी गई है। ब्लॉगरों के लिए यह एक अच्छा अवसर इसलिए है क्योंकि इस संग्रह की बिक्री का 75% भाग प्राची डिजिटल पब्लिकेशन द्वारा लेखकों को ही दिया जा रहा है और इसके साथ ही उन्हें एक किताब का लेखक बनने का सुअवसर भी प्राप्त हो रहा है। तो देर किस बात की जल्द ही अपनी कलम उठाएं और लिख भेजिए अपने आसपास की बेहतरीन कहानी। 

No comments:
Write टिप्पणियाँ