31 August, 2017

राष्ट्रीय मुस्लिम मंच ने की बकरीद पर जानवरों की कुर्बानी न देने की अपील | ब्लॉग आपकी सहेली


दोस्तो, आज मैं बहुत-बहुत खुश हूं...क्योंकि ख़बर हैं ही इतनी खुशी की! मैं ही क्यों ख़बर पढ़ कर हर देशवासी खुश होगा। आरएसएस के मुस्लिम विंग राष्ट्रीय मंच ने इस साल देश में बकरीद पर जानवरों की कुर्बानी न देने की अपील की हैं! मुस्लिम मंच ने कहा हैं कि बकरीद पर जानवरों को जिबह किया जाना कुर्बानी नहीं बल्कि जानवरों का कत्ल हैं। ईद-उल-अजहा से पहले ही मुस्लिम संगठनों व नेताओं ने इस्लाम धर्म को मानने वालों से सड़कों पर कुर्बानी ना देने का आग्रह किया हैं। मुस्लिम मंच पदाधिकारियों ने कहा, पेड़-पौधे और जानवर अल्लाह ने बनाए हैं, उन पर रहम करना चाहिए। मंच ने जानवरों की कुर्बानी कि तुलना तीन तलाक से कर डाली।
इस ख़बर में सबसे ज्यादा ख़ुश होने वाली बात यह हैं कि बकरीद पर जानवरों की कुर्बानी न देने की अपील स्वयं मुस्लिम संगठनों ने की हैं! हाल ही में तीन तलाक पर पाबंदी का जो फ़ैसला आया वो न्यायालय की तरफ़ से आया था। मुस्लिम धर्मगुरुओं को वे मजबुरन मानना पड़ा। जब किसी भी धर्म के ठेकेदार स्वयं आगे बढ़कर उस धर्म की कुरीति को ख़त्म करने की अपील करेंगे तो धीरे-धीरे वह कुरीति ख़त्म होगी ही। कोई भी कुरीति कानून से जितनी जल्दी ख़त्म नहीं हो सकती उतनी जल्दी वो धर्म के ठेकेदारों के अपील पर ख़त्म हो सकती हैं। हिंदू धर्म में भी कई कुरीतियां हैं जिन्हें बंद करना समय की जरुरत हैं। लेकिन जो भी इस मामले में आवाज़ उठाता हैं उसे नास्तिक कहकर खारिज किया जाता हैं। सिर्फ़ हिंदुओं की कुरीतियां ही क्यों दिखती हैं ऐसा आक्षेप लगाया जाता हैं। जितनी चर्चा हिंदू धर्म के कुरीतियों की होती हैं उतनी चर्चा मुस्लिम धर्म के कुरीतियों की नहीं होती क्योंकि दरअसल हिंदू धर्म के लोगों में शिक्षा का प्रतिशत ज्यादा होने से ये लोग सही-गलत सोच सकते हैं! अभी हाल ही में मैं ने ऋषि पंचमी पर "बहनों, ऋषि पंचमी का व्रत करने से पहले जरा सोचिए..." पोस्ट लिखी थी। फेसबुक के एक ग्रृप में उस पर एक टिप्पणी आई कि आपको हिंदु धर्म में ही कुरीतियां क्यों नजर आती हैं? यदि हिम्मत हैं तो बकरीद पर लिख कर दिखाओं!

<<< पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए 'आपकी सहेली' ब्लॉग पर जाएं >>>



ज्योति देहलीवाल जी एक गृहणी है और महाराष्ट्र में निवारसरत है। आप 2014 से ब्लॉग लिख रही है। उनके ब्लॉग पर विभिन्न विषयों से संबधित रोचक जानकारियां और सामाजिक व घरेलू टिप्स आदि ढ़ेरो जानकारीवर्द्धक लेखो की काफी लम्बी श्रृखला है। ज्योति जी से ई-मेल jyotidehliwal708@gmail.com पर स्म्पर्क किया जा सकता है और उन्हे Facebook पर फालो कर सकते है।


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ


Blog this Week

loading...