14 September, 2017

जाने कब खत्म होगा, ये इंतज़ार... | ब्लॉग नई सोच


ये अमावस की अंधेरी रात
तिस पर अनवरत बरसती
ये मुई बरसात..
और टपक रही मेरी झोपड़ी
की घास-फूस...
भीगती सिकुड़ती मिट्टी की दीवारें 
जाने कब खत्म होगा  ये इन्तजार?
कब होगी सुबह...?
और मिट जायेगा ये घना अंधकार!
थम ही जायेगी किसी पल फिर यह बरसात

<<< पूरी रचना पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें >>>


सुधा देवरानी जी 2016 से ब्लॉगिग कर रहें है और अपनी कविताओं को नई सोच ब्लॉग के माध्यम से पाठको के बीच रख रहीं है। ब्लॉगर सुधा जी से ई-मेल sdevrani16@gmail.com पर स्म्पर्क किया जा सकता है। 


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ