17 October, 2017

माँ पर दो बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़लें | ब्लॉग उड़ती बात

 माँ पर ख़ूबसूरत ग़ज़ल-दुआयें

दुआयें माँ की, कभी कम नहीं होतीं
माँ तो माँ है, ख़ुदा से कम नहीं होती।

माँ कल ख़ुदा से, ज़बाबतलबी करती रही
मुश्किलें क्यों, बेटे की कम नही होतीं।

एक दिन मेरा बेटा भी, सिकन्दर बनेगा
माँ की उम्मीदें, कभी कम नहीं होतीं।

मेरा पहला गुनाह, और माँ का वो थप्पड़
सबक देने में, माँ को शरम नहीं होती।

मुझसे बेहतर जानती है, जीने का सलीका
माँ की ख़ुश मिज़ाजी, कम नही होती।

मेरा दावा है कि, दुनिया मे कोई भी चीज़
माँ के दिल से ज्यादा, नरम नही होती।

<<< अन्य रचनाएं पढ़ने के लिए 'उड़ती ब्लॉग' ब्लॉग पर जाएं >>>



अमित जैन 'मौलिक' लेखक, कवि एवं एंकर है। आप मूलतः रेस्तरा व्यवसाय में है और जबलपुर, मध्यप्रदेश के निवासी है। लेखक ज़्यादातर रोमांटिक शायरी, ग़ज़ल, गीत, कवितायें लिखते है, इसके साथ ही भाषण, मंच संचालन सामग्री, कहानियाँ एवं नुक्कड़ नाटक आदि भी लिखते है।


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ


Blog this Week

loading...