29 December, 2017

सुस्वागतम् नववर्ष का, पल -पल बदलते नये पल का | ब्लॉग ऊंचाईयाँ


स्वागत करो, पल-पल बदलते हर नये पल का

"नया दौर है,
नया युग है 
"नये युग की नयी -नयी आशाएँ 
नये रूप में, नये रंग में, 
नये अरमानों के पंख लिये
नये ढंग से इतिहास रचने को 
नयी-नयी अभिलाषाएँ।
दिवस बदलेगा, माह बदलेगा,वर्ष भी बदलते जायेंगे 
युग बदलेगा, समय का पहिया आगे बड़ता जायेगा"

नवयुवकों स्वागत करो, पल-पल बदलते हर नये पल का 
आगे बड़ता हर क्षण नया है,
आनन्द,का हर क्षण मूल्यवान 
हर क्षण आनन्द और उत्साह का 
सत्यता के संग, परिश्रम लगन और जुनून की
आत्मिक पूँजी, है हर पल सफलता की कुंजी 

<<< पूरी रचना पढ़ने के लिए 'ऊंचाईयां' ब्लॉग पर जाएं >>>



श्रीमती रितु आसूजा जी सन 2013 से ब्लॉग लिख रहीं है और तब से लेकर अब तक प्रेरक और समाजिक लेखन के जरिए ब्लॉग जगत में अपनी अलग पहचान बनाए हुए है। उनसे ई-मेल ritu.asooja1@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है। 


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ