29 December, 2017

कब्ज़ा (लघु कथा ) | ब्लॉग बोल सखी रे


रफ़ीक मियाँ कोर्ट के बाहर बुरी तरह से चीख रहे थे और अपने कपड़े नोच रहे थे.भीड़ आस पास तमाशा देखरही थी. कोइ बोला,”सत्तर बरस का बूढ़ा रोड पर नंगा होकर क्या कर लेगा...... फिर भी चिल्लाने दीजिये शायद हमारे देश की न्याय व्यवस्था को शर्म आ जाए!
पूरी ज़िंदगी गुजार दी रफीक मियाँ ने सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगाते लेकिन टस से मस न हुआ था उनकी जमीन पर अवैध कब्जा करने वाला संग्राम सिंह. रफीक के बाबा ने कितनी हसरत से शहर में जमीन खरीदी थी कि उनके बाल -बच्चों को किराए के मकान में होने वाली किच-किच से न जूझना पड़े. जमीन खरीदने में ही बूँद-बूँद जमा की गयी बचत खर्च हो गयी थी. बेचारे जमीन पर बाउंड्री भी न पाए थे और अल्लाह को प्यारे हो गए थे. रफीक के अब्बाजान सऊदी चले गए थे जब वो अपनी अम्मी के गर्भ में ही था. वंहा वे किसी फैक्ट्री में जाने क्या काम करते थे कि जब भी फोन पर बात करते तो कहते कि घर वापस आने के लिए पैसे जमा कर रहे हैं. पर न पैसे जमा हो पाए और न वो घर आये. एक दिन पड़ोस के बब्बन  चचा ने खबर दी कि उनकी रोड एक्सीडेंट में मौत हो गयी है. अम्मी ने उन्हें वहीं सुपुर्दे खाक करने की इजाज़त दे दी. अब उम्मीद भी ख़त्म हो गयी थी अब्बा के लौट आने की. रफीक मियाँ उस समय सत्रह बरस के थे.
अब रफीक ने भी एक गैराज में काम करना शुरू कर दिया था. इतने दिनों से अम्मी दूसरों के घर काम करके किसी तरह से उन्हें पाल रहीं थी और एक सपना देख रही थीं कि एक दिन उनका अपना घर होगा और रफीक वंही अपना गैराज खोलेगा.

<<< पूरी रचना पढ़ने के लिए 'ब्लॉग बोल सखी रे' ब्लॉग पर जाएं >>>



अपर्णा बजपेयी जी जम्शेद्पुर में रहती है। आपने 2016 में ही ब्लॉग लेखन शुरू किया है और वर्तमान में झारखंड में आदिवासियों के बीच स्वास्थ, शिक्षा, आजीविका के मुद्दे पर काम कर रहीं है। दैनिक हिन्दुस्तान, जन संदेश टाइम्स, कथाक्रम तथा अन्य कई पत्र पत्रिकाओं में आपकी कविता और कहानियां प्रकाशित हो चुकी हैं।


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ