Articles - October 31, 2018

#MeToo अभियान : जाके पैर न फटी बिवाई, वो क्या… | आपकी सहेली

आजकल मीटू से संबंधित सोशल मीडिया पर जो बेतुके पोस्ट आ रहे हैं जैसे कि गर्लफ्रैंड ने रेस्टॉरंट का बिल नहीं भरा या पत्नी 4-5 रोज से लौकी की सब्जी बना कर खिला रहीं हैं, यह भी #shetoo के अंतर्गत आना चाहिए …दाद देनी पड़ेगी ऐसी पोस्ट्स लिखने वाले के दिमागिया दिवालेपन की!! क्या रेस्टॉरंट का बिल भरने का दर्द या लौकी की सब्जी खाने का दर्द और यौन शोषण का दर्द एकसमान हैं? सच हैं, जाके पैर न फटी बिवाई, वो क्या जाने पीर पराई…!!

क्या हैं #MeToo अभियान?

दुनिया को #MeToo शब्द अमेरिका की तराना बुर्क ने दिया। 2006 में न्यूयार्क में एक पीड़ित लड़की से बात करते हुए उन्होंने कहा था, ”तुम अकेली नहीं हो। यह मेरे साथ भी हुआ हैं।” इसके लिए उन्होंने ‘मीटू’ शब्द का इस्तेमाल किया। एक साल पहले 15 अक्टूबर 2017 को हॉलिवुड अभिनेत्री एलिसा मिलानो ने ट्वीट किया था कि ”अगर आप किसी यौन शोषण का शिकार हुई हैं तो मेरे ट्वीट के जबाब में मीटू लीखिए।” अगले ही दिन इस पर 5 लाख से ज्यादा ट्वीट किए जा चुके थे। भारत में मिस इंडिया रही तनुश्री दत्ता ने एक टीवी इंटरव्यू के दौरान कहा‌‌- 2009 में फिल्म ‘हॉर्न ओके प्लीज’ के सेट पर नाना पाटेकर ने उनका शोषण किया। उनके इस खुलासे के बाद भारत में इस अभियान ने जोर पकड़ा। उसके बाद कई नामी हस्तियों पर #मीटू अभियान के तहत आरोप लग चुके हैं। जिनमें- अभिनेता आलोकनाथ, निर्देशक साजिद खान और सुभाष घई, पत्रकार विनोद दुआ, विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर, लेखक चेतन भगत, कॉमेडियन उत्सव चक्रवर्ती शामिल हैं। प्यू रिसर्च सेंटर के अनुसार सितंबर के अंत तक 1.9 करोड बार मीटू को ट्वीटर पर इस्तेमाल किया जा चुका हैं। यानी हर दिन लगभग 55 हजार 319 ट्वीट्स मीटू से जुड रहे हैं।

<<< पूरी जानकारी के लिए ‘आपकी सहेली’ ब्लॉग पर जाएं >>>

 


ज्योति देहलीवाल जी एक गृहणी है और महाराष्ट्र में निवारसरत है। आप 2014 से ब्लॉग लिख रही है। उनके ब्लॉग पर विभिन्न विषयों से संबधित रोचक जानकारियां और सामाजिक व घरेलू टिप्स आदि ढ़ेरो जानकारीवर्द्धक लेखो की काफी लम्बी श्रृखला है। ज्योति जी से ई-मेल jyotidehliwal708@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है और उन्हे Facebook पर फालो कर सकते है।
SourceBLOG // AAPKI SAHELI


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *