Poem - April 20, 2018

चलो तुमको उड़ाता हूँ सलोने आसमाँ पे मैं | ब्लॉग मेरी आवाज़

चलो तुमको उड़ाता हूँ सलोने आसमाँ पे मैं

तुम्हारे साथ हूँ हरदम ऐ हमदम! इस जहाँ में मैं
मुझे तुम यूँ भुलाकर तो नही जी पाओगे
जहाँ तेरी नज़र जाएँगी आऊँगा वहाँ पे मैं
तुम्हारी सादगी पर है निछावर ज़िन्दगी मेरी
मुझे अपना बनाओ तुम महक जाऊँ फिज़ा में मैं
मेरा घर-द्वार कुछ न है, तुम्हारा प्यार है सबकुछ
लिपट कर आ मिलो हमसे कहो आऊँ कहाँ पे मैं

 

 


नीलेन्द्र शुक्ल ‘नील’ जून 2016 से ब्लॉग दुनिया में आए है। ये काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से संस्कृत में स्नातक के छात्र है। आपसे sahityascholar1@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है।

यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें – iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *